Omega 3 Fatty Acid Benefits and Side Effects

" Medicine is a Science of Uncertainty and an art of Probability "

400
Omega 3 Fatty Acid Benefits and Side Effects

श      रीर को स्वस्थ रखने के लिए पोषक तत्वों की अहम भूमिका होती है। ये शरीर की कार्यप्रणाली को नियंत्रित और सुचारू रूप से चलाने में मदद करते हैं। इनके महत्व का पता इस बात से लगाया जा सकता है कि शरीर में इनकी कमी विभिन्न शारीरिक समस्या का कारण बन सकती है। ऐसे ही जरूरी पोषक तत्वों में शामिल है. Omega 3 Fatty Acid। Google Today के इस आर्टिकल में जानिए Omega 3 Fatty Acid के फायदे। साथ में जानिए ओमेगा 3 फैटी एसिड का उपयोग किस प्रकार किया जा सकता है। इसके अलावा, लेख में ओमेगा 3 फैटी एसिड के नुकसान को भी साझा किया गया है। पाठक इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि ओमेगा-3 फैटी एसिड लेख में शामिल किसी भी रोग का इलाज नहीं है। यह केवल शारीरिक समस्या के प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में सहयोग कर सकता है।

  1. ओमेगा -3 फैटी एसिड महत्वपूर्ण वसा है जो आपको अपने आहार से प्राप्त करना चाहिए।
  2. हालाँकि, ज्यादातर लोग नहीं जानते कि वे क्या हैं।
  3. यह लेख बताता है कि आपको ओमेगा -3 फैटी एसिड के बारे में जानने की जरूरत है, जिसमें उनके विभिन्न प्रकार शामिल हैं और वे कैसे काम करते हैं।

How to Use Omega 3 Fatty Acid 

Omega 3 Fatty Acid के लाभ इस बात पर भी निर्भर करते हैं कि उसे किस रूप में लिया जा रहा है। यहां हम इसके कुछ स्वास्थ्यवर्धक उपयोग के बारे में बता रहे हैं।

Full Information about Omega – 3 Fatty Acids

कैसे करें सेवन:

  • Omega 3 Fatty Acid को कैप्सूल के रूप में लिया जा सकता है।
  • मछली को ओमेगा-3 फैटी एसिड का सबसे अच्छा स्रोत माना गया है।
  • इसलिए, ओमेगा-3 युक्त मछली का सेवन किया जा सकता है।
  • कुछ तेल में ओमेगा 3 फैटी एसिड की अच्छी मात्रा पाई जाती है।
  • इनमें अलसी, सोयाबीन और कैनोला तेल शामिल हैं।
  • ऐसे में ओमेगा 3 फैटी एसिड से समृद्ध तेल का उपयोग किया जा सकता है।
  • ओमेगा 3 फैटी एसिड के लिए नट्स का सेवन भी अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।
  • इसके लिए आप अखरोट का सेवन कर सकते हैं।
  • इसमें ओमेगा-3 की अच्छी मात्रा पाई जाती है।
  • अन्य ओमेगा-3 के स्रोत में अंडे, दही, जूस और दूध भी शामिल हैं।

कब करें सेवन:

  • सुबह या शाम को ओमेगा-3 युक्त नट्स का सेवन किया जा सकता है।
  • दोपहर या रात के खाने में ओमेगा-3 युक्त मछली या तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है।

कितना करें सेवन: 

  • 14 वर्ष या इससे अधिक उम्र वाले पुरुष प्रतिदिन 1.6 ग्राम और महिलाएं 1.1 ग्राम ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन कर सकती हैं।

Benefits of Omega 3 Fatty Acid

आहार में ओमेगा-3 फैटी एसिड का उपयोग निम्नलिखित फायदे पहुंचा सकता है।

Beneficial for skin – त्वचा के लिए

  • ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे त्वचा पर भी दिखाई दे सकते हैं।
  • दरअसल, ओमेगा-3 अल्ट्रा वायलेट किरणों के कारण उत्पन्न सूजन और हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्या को दूर रखने का काम कर सकता है।
  • साथ ही यह रूखी त्वचा और डर्मेटाइटिस (त्वचा में सूजन, खुजली, जलन और लाल चकत्ते) पर सकारात्मक प्रभाव दिखा सकता है और घाव को जल्द भरने में मदद कर सकता है।

Improve eye health – नेत्र स्वास्थ्य में 

  • ओमेगा 3 फैटी एसिड के लाभ आंखों के लिए भी मददगार हो सकते हैं।
  • इनवेस्टिगेटिव ऑप्थेल्मोलॉजी एंड विजुअल साइंस की एक स्टडी के अनुसार ओमेगा 3 फैटी एसिड का उपयोग उम्र आधारित दृष्टि हानि (Age related vision loss) से बचाव का काम कर सकता है।
  • वहीं, एक शोध में बताया गया है कि ओमेगा-3 फैटी एसिड ड्राई आई (शुष्क आंख) सिंड्रोम के जोखिम को भी कम करने में मददगार हो सकता है।
  • फिलहाल, इस पर और शोध की आवश्यकता है।

Relief from (swelling) – सूजन में 

  • ओमेगा-3 फैटी एसिड सूजन से भी राहत देने में मदद कर सकता है।
  • दरअसल, ओमेगा-3 फैटी एसिड में एंटी इंफ्लेमेटरी प्रभाव पाए जाते हैं।
  • एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव इंफ्लेमेशन (सूजन) को कम करने में सहायक हो सकते हैं।
  • साथ ही ओमेगा-3 फैटी एसिड गठिया, अस्थमा और इंफ्लेमेटरी बाउल डिसऑर्डर से जुड़ी सूजन की समस्या को भी कुछ हद तक कम करने में मददगार हो सकता है।

Cancer prevention – कैंसर से बचाव

  • ओमेगा-3 फैटी एसिड का उपयोग कैंसर से बचाव में भी मददगार हो सकता है।
  •  एक शोध में देखा गया है कि कीमोथेरेपी – एक प्रकार का कैंसर ट्रीटमेंट के दौरान ओमेगा-3 फैटी एसिड का उपयोग इंफ्लेमेटरी प्रतिक्रियाओं को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकता सकता है।
  • पाठक इस बात का ध्यान रखें कि ओमेगा-3 फैटी एसिड किसी भी तरीके से कैंसर का इलाज नहीं है।
  • अगर कोई इस बीमारी से पीड़ित है, तो वो जल्द से जल्द अपना डॉक्टरी इलाज करवाए।

Depression and Anxiety – अवसाद और चिंता

  • अवसाद से छुटकारा पाने के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड का उपयोग सहायक साबित हो सकता है।
  • इस बात का पता इससे जुड़े एक शोध से चलता है।
  • शोध के अनुसार, ओमेगा-3-फैटी में एंटीडिप्रेसेंट गुण पाए जाते हैं.
  • जो अवसाद की स्थिति में आराम पहुंचाने का काम कर सकते हैं।
  • एक रिपोर्ट से पता चलता है कि ओमेगा-3-फैटी चिंता के लक्षण को भी दूर करने में कारगर साबित हो सकता है।

For metabolic syndrome – मेटाबॉलिक सिंड्रोम के लिए

  • मेटाबॉलिक सिंड्रोम कुछ जोखिम कारकों का एक समूह है, जो कोरोनरी आर्टरी डिजीज, स्ट्रोक और टाइप 2 डायबिटीज की आशंका को बढ़ाने का काम कर सकता है।
  • यहां ओमेगा-3 फैटी एसिड के फायदे देखे जा सकते हैं।
  • दरअसल, एक शोध के अनुसार, ओमेगा-3 फैटी एसिड इंसुलिन रेजिस्टेंस (जो ब्लड शुगर को बढ़ाने का काम करता है) के जोखिम को कम कर सकता है।
  • साथ ही ओमेगा-3 मोटापे से जुड़े मेटाबॉलिक परिवर्तन में सुधार कर सकता है.
  • जिसमें लिपिड मेटाबॉलिज्म भी शामिल है।
  • इंसुलिन रेजिस्टेंस और मोटापा, दोनों ही मेटाबॉलिक सिंड्रोम के मुख्य जोखिम कारक माने जाते हैं।
  • इसलिए, ऐसा कहा जा सकता है कि ओमेगा 3 फैटी एसिड के फायदे मेटाबॉलिक सिंड्रोम के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं।
 इसे भी पढ़ें : 

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ

Types of Omega 3 Fatty Acid 

  1. ALA
  2. EPA
  3. DHA

ALA – Alpha-Lipoic Acid

  • अल्फा-लिनोलेनिक एसिड (ALA) आपके आहार में सबसे आम ओमेगा -3 फैटी एसिड है।
  • आपका शरीर मुख्य रूप से ऊर्जा के लिए इसका उपयोग करता है.
  • लेकिन इसे जैविक रूप से सक्रिय रूप में ओमेगा -3, ईपीए और डीएचए में भी परिवर्तित किया जा सकता है।
  • हालाँकि, यह रूपांतरण प्रक्रिया अक्षम है। एएलए का केवल एक छोटा प्रतिशत सक्रिय रूपों में परिवर्तित होता है
  • ALA फ्लैक्स सीड्स, फ्लैक्ससीड ऑयल, कैनोला ऑयल, चिया सीड्स, अखरोट, हेम्प सीड्स और सोयाबीन जैसे खाद्य पदार्थों में पाया जाता है।

EPA – Eicosapentaenoic acid

  • Eicosapentaenoic एसिड (EPA) ज्यादातर पशु उत्पादों में पाया जाता है, जैसे कि वसायुक्त मछली और मछली का तेल।
  • आपके शरीर में इसके कई कार्य हैं।

DHA – Docosahexaenoic acid

  • Docosahexaenoic acid (DHA) आपके शरीर में सबसे महत्वपूर्ण ओमेगा -3 फैटी एसिड है।
  • आपके मस्तिष्क का एक प्रमुख संरचनात्मक घटक, आपकी आँखों का रेटिना, और शरीर के कई अन्य हिस्से,
  • ईपीए की तरह, यह मुख्य रूप से वसायुक्त मछली और मछली के तेल जैसे पशु उत्पादों में होता है।

Side Effects of Omega 3 Fatty Acid

ओमेगा-3 फैटी एसिड के सेवन से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। नीचे इससे होने वाले आंशिक नुकसानों के बारे में बताया गया है।

  1. बार-बार डकार आना
  2. सीने में जलन
  3. पेट में दर्द
  4. जोड़ों में दर्द
  5. उल्टी
  6. कब्ज
  7. दस्त
  8. मतली
  9. स्वाद पहचानने में परिवर्तन

उम्मीद करते हैं कि आपको समझ आ गया होगा कि Omega 3 Fatty Acid क्या है और यह शरीर के लिए किस प्रकार फायदेमंद हो सकता है। जैसा कि हमने बताया कि यह कई शारीरिक समस्याओं से बचाव में मदद कर सकता है, लेकिन इस बात का ध्यान जरूर रखें कि यह कोई मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं है। अगर कोई गंभीर स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित है, तो उसका डॉक्टरी इलाज जरूरी है। साथ ही इसके सेवन की मात्रा का भी ध्यान रखें। उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा। Thankyou………..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here